What Is Diabetes,Symptoms,Causes And How Do We Treat It?

What is Diabetes?

Diabetes (मधुमेह) एक लाइफ स्टाइल से संबंधित बीमारी है जिसमे शरीर में शुगर की मात्रा आवश्यकता का से बहुत अधिक बढ़ जाती है ।बहुत सारे लोग इसी सोच में रहते है कि जो लोग मीठा बहुत अधिक खाते हैं उनको ही शुगर होता है यह किसी भी आयु में, किसी भी व्यक्ति को हो सकता है इसकी कोई आयु सीमा नही होती है । शुगर की मात्रा बढ़ जाने पर यह शरीर को अंदर ही अंदर खोखला करता रहता है जिससे कि शरीर के अंगों जैसे- आंतें ,नसें ,और फेफड़ों मे इसका प्रभाव दिखता है इसलिए हमे समय रहते ही इन लक्ष्णों को जान लेना चाहिए और शरीर में आने वाली गंभीर बिमारियों को रोक लेना चाहिए ।

यहाँ हम कुछ ऐसे लक्षण जानेगें जिससे हमे पता चल सके की डायबिटीज क्या है

However, more recently diabetes has been linked to an increased risk of depression but how poor mental health may affect patients with diabetes has not been fully investigated

1. बार बार भूख लगना— खाना खा लेने के बाद भी भूख लगना शुगर का लक्षण हो सकता है । साथ हीबार बार खाना खाने से भी शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है

2. बार बार पेशाब आना — शुगर के कीमात्रा बढ़ने का असर मानव शरीर के गुर्दों पर भी होता है जिससे की गुर्दे शरीर के तरल पदार्थों को सोखने में असमर्थ हो जाते हैं और शरीर के तरल पदार्थ बाहर निकलने लगते है जिससे बहुत ज्यादा परेशानी आने लग जाती हैं ।इसीलिएआइसक्रीम चॉक्लेट आदि पदार्थों का सेवन बहुत कम करना चाहिए ।

3. मुँह का सुखना और बार-बार प्यास लगना :–मुँह का सुखना और बहुत ज्यादा प्यास लगना हमें यह दर्शाता है कि शरीर में द्रव पदार्थों की मात्रा बहुत कम हो गयी है ।हम अक्सर देखते हैं कि लोग सादा पानी न पीकर कुछ भी मीठा तरल पदार्थ सेवन करने लगते हैं जबकि ऐसी स्थिति में सादे पानी में नींबू मिलाकर पीना बहुत अधिक फायदेमंद होता है ।

4 .आँखे/ कमजोर हो जाना :–आँखों का कमजोर होना या धुंधला दिखाई देना, यह भी शरीर में बढ़ी हुई शुगर का कारण हो सकता है । इस स्थिति में आँखों की कोशिकाएं बहुत अधिक प्रभावित होजाती हैं और हमारी देखने की शक्ति बहुत कम हो जाती है।

5 . बिना कारण से थकावट होना :– जब शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है तो उस समय हमारा शरीर ऊर्जा का इस्तेमाल अच्छी तरह नही कर पाता जिसके कारण शुगर के मरीज को बिना किसी कारण के थकावट महसूस होने लगती है, अगर आपको भी ऐसा ऐसे बिना किसी कारण के जल्दी थकावट महसूस की होती है तो हो सकता है कि आपके भी आपका शुगर का स्तर बढ़ गया हो, इसलिए जितनी जल्दी हो सके शुगर मीठे के पदार्थों से परहेज करें और चीनी को छोड़ कर शहद या शुगर से रहित चीजों का सेवन करें

6. वजन का कम हो जाना :–वजन का एकदम से कम हो जाना शुगर का बहुत महत्वपूर्ण लक्षण है ।इसमें मरीज़ का वजन बहुत तेजी से घटता है और तो और हाई कैलोरी डाइट लेने से भी कोई ज्यादा फायदा सेहत को नही होता है और इसका एक कारण मानव शरीर में पानी की कमी होना भी होता है इससे इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है और मोटापा घटने लगता है। और बार-बार पेशाब करने से भी मानव शरीर के जरुरी पोशक तत्व बाहर निकल जाते है जिसकी वज़हसे वजन कम होने लगता है ।

7. घाव का जल्दी ठीक न हो जाना होना :–जिन लोगों के शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है उनमे देखा ऐसागया है कि उनके घाव या चोटें नहीं भरते हैं ।घाव छोटा हो या बड़ा वह जल्दी ठीक नहीं होता है

8. नपुंसकता एक गंभीर समस्या:–शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा का अधिक हो जाना यह नपुंसकता जैसीसमस्याओं बीमारी को बढ़ावा देता है

इन सब कारणों की वजह से पुरुष में नपुंसकता के मामलों में तेजी आई है। असामान्य शुक्राणु उत्पादन के पीछे पोषण की कमी, मोटापा, जीवनशैली से जुडे़ बदलाव और कुछ खास किस्म के विषैले तत्वों मसलन कीटनाशक, सीसा, पेंट तथा विकिरण इत्यादि के प्रभाव में आना भी हो सकता है। पुरुष द्वारा बाडी बनाने के लिए गए स्टेरोइड भी नपुंसकता का कारण बन सकते हैं।

9. फॉर हैल्थी सेक्स लाइफ —शरीर में रक्त संचार का सही तरीके से होना और नसों का मजबूत होना और इसके साथ-साथ हार्मोन्स का बैलेन्स होना बहुत ज्यादा जरूरी है, ये सब चीज़ें शुगर की वज़ह से प्रभावित होती है

10. तनाव और चिन्ता :– जिन लोगों को में हाई ब्लड शुगर होता है उन लोगों चिड़चिड़ापन और तनाव की समस्या बहुत ज्यादा रहती है वहाँ पर दमक को ग्लूकोज की जरूरत बहुत ज्यादा होती है और जब यह मात्रा ठीक इसकी वज़ह है सेस्ट्रेस हॉर्मोन का लेवल बढ़ जाता है से नहीं मिल पाती तो इसका असर दिमाक पर बहुत बुरा होता है इसीलिए मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति हमेशा चिन्ता और तनाव में रहने लगता हैं ।

11. ध्यान केन्द्रित ना कर पाना :– मानव के दिमाक दिमाग की काम करने की शक्ति को बढ़ाने के लिए शुगर का सही मात्रा में होना बहुत ज्यादा जरूरी है । शुगर की मात्रा बढ़ जाने पर हॉर्मोन्स असंतुलित हो जाते है जिस कारण से दिमाग की सोचने समझने की शक्ति बहुत कम हो जाती है ।

12.. ड्राई स्किन : । जब मानव शरीर में पानी की कमी हो जाती तो शरीर की त्वचा सूखने लगती है ।और चीनी का अधिक उपयोग तंत्रिकाओं को बहुत ज्यादा हानि पहुंचा सकता है और साथ ही शरीर में पसीना बनाने वाली ग्ग्रंथियों को भी कमजोर बना सकता है जिससे की त्वचा सूखने लग जाती है और शरीर कमजोर होने लगता है ।

FBS( खली पेट ):– १००-१२५ mg/DL (100- 125 mg/dl)

RBS(खाना खाने के २ घंटे बाद )–२०० mg /DL(200 mg/dl)

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  

Dr. Vikram Chauhan

Dr. Vikram Chauhan (MD-Ayurveda) is an expert ayurvedic doctor based in Chandigarh, India and doing his practice in Mohali, India. He is spreading the knowledge of Ayurveda - Ancient healing treatment, not only in India but also abroad. He is the CEO and Founder of Planet Ayurveda Products, Planet Ayurveda Clinic and Krishna Herbal Company.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *