Natural Treatment of Hernia Through Ayurveda (आयुर्वेद के द्वारा हर्निया का सही उपचार)

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार हर्निया अंग का एक फुलाव है जो एक कमजोर स्थान के माध्यम से एक क्षेत्र को प्रभावित करता  है, जो इसका नहीं होता  है। मानव शरीर में विभिन्न प्रकार के हर्निया मौजूद हैं  जैसे  वंक्षण, ऊरु, नाभि और हयातल (oesophageal) आदि ।

आधुनिक चिकित्सा के अनुसार  Hiatus का अर्थ है एक उद्घाटन। यह  छाती क्षेत्र और पेट क्षेत्र को अलग करता है और एक उद्घाटन (अंतराल) होता है कभी-कभी, इस अंतराल के माध्यम से पेट के उभार के ऊपरी छोर या हृदय के अंत में छाती की गुहा में इस स्थिति को ओसोफेजियल हेटस हर्निया कहा जाता है। आयुर्वेद के अनुसार, यह एक वटज है यानि शरीर के अंदर पित्त दोष के असंतुलित होने की वजह से होने वाला रोग है । ज्यादातर यह स्थिति अति अम्लता और अपच के लक्षणों के कारण शरीर को सबसे ज्यादा प्रभावित करती  है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार HIATUS हर्निया के प्रकार आइये जानते हैं

आयुर्वेद के अनुसार HIATUS हर्निया 2 प्रकार का होता है

1. स्लाइडिंग ओओसोफेगल हायटल हर्निया

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि, पेट और ग्रासनली के बीच का जंक्शन पेट के बढ़ते दबाव के दौरान ऊपर की ओर स्लाइड करता है और दबाव मुक्त होने पर स्वतः ही पेट में वापस चला जाता है।इन सभी लक्षणों से इस बीमारी को पहचाना जा सकता है ।

2. पैरा ओओसोफेगल हायटल हर्निया

आयुर्वेद के अनुसार  जब पेट का कुछ हिस्सा छाती की गुहा में चिपक जाता है या स्थिर रहता है। इस तरह के हर्निया को पैरा ओसोफेगल हेटल हर्निया कहा जाता है। यह असामान्य लेकिन खतरनाक है क्योंकि कभी-कभी, पेट अंदर से संक्रमण से ग्रसित होकर गल जाता है और इसको  रक्त पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाता  है।

Oesophageal Hiatus हर्निया के मुख्य कारण

1. गलत आहार का सेवन

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार लघु , ठंडा, रुद्राक्ष (सूखा) सभी खाद्य पदार्थ शरीर के अंदर वात दोष को बढ़ाने वाले माने जाते हैं,ये खाद्य पदार्थ इस बीमारी को बढ़ाने में मददगार होते हैं। इसके साथ ही मसालेदार और किण्वित खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन इस स्थिति को और अधिक बढ़ा सकता है ।

2. खराब दिनचर्या

भोजन के बीच एक अनुचित अंतराल, भार उठाना, असामान्य बैठने की मुद्रा, शौच करते समय तनाव, प्राकृतिक नियमों का उल्ल्घन इस बीमारी को बढ़ाने में सहायक हो सकता है|

3. मांशपेशियों का कमजोर हो जाना ।

4. अनुवांशिक कारण

हर्निया

आयुर्वेद  के अनुसार इस स्थिति में हानिकारक कारण

  1. मोटापा
  2. धूम्रपान
  3. खांसी होना

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार हर्निया के कारण

ancient reference

व्याख्या — इस श्लोक में कहा गया है कि वातज अराजा की अत्यधिक खपत, ठंडे पानी के संपर्क में आना, प्राकृतिक आग्रहों को दबाना, अत्यधिक वजन उठाना और चलना, और विभिन्न असामान्य आसन हर्निया के कारक हैं।

संदर्भ– भावप्रकाश निघण्टु, (चिकित्साप्रकरण / वृद्धिवराधनाधिकारा ),श्लोक -९ ।

हर्निया होने के मुख्य लक्ष्ण

  • दर्द – जब पेट का कार्डियक सिरा उल्टा हो जाता है तो दर्द बढ़ जाता है। अधिकतर, दर्द एपीगैस्ट्रिक क्षेत्र में बहुत ज्यादा होता है।
  • डिस्फेजिया – निगलने में कठिनाई महसूस होना ।
  • आंतरिक सूजन ।
  • एसिडिटी के कारण सीने में जलन ।
  • खट्टी डकार आना ।
  • भोजन और पाचन एंजाइमों का परिवर्तन
  • लगातार खांसी, हिचकी और छींकने से दर्द होता है।

आयुर्वेदिक उपचार

प्लेनेट आयुर्वेदा वैद्यशाला में १०० % शुद्ध  प्राकृतिक जड़ी-बूटियों, प्राकृतिक खनिजों और कैल्शियम यौगिकों से तैयार करके औषधियाँ बनाई गयी हैं  । Oesophageal hiatus हर्निया की बीमारी को दूर करने  के लिए आयुर्वेद ‘HIATUS HERNIA CARE PACK’ लेकर आया है जो विभिन्न प्रभावी जड़ी बूटियों और कैल्शियम यौगिकों से बना है। इस पैक में शामिल हैं

  1. शतावरी कैप्सूल
  2. डाइजेशन सपोट
  3. हार्ट बर्न कैप्सूल

herbal supplements

Buy Now

1. शतावरी कैप्सूल

आयुर्वेद के अनुसार शतावरी शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने वाली औषधियों में से एक जड़ी बूटी है ।कमजोर संरचनाओं को मजबूत करती  है। यहां तक कि यह पूरे तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाए रखने में सहायक साबित होती है ।

उपयोग करने का तरीका :- भोजन के बाद, सादे पानी के साथ 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।

2. डाइजेशन सपोट

यह एक पाचन समर्थन प्राकृतिक  जड़ी बूटियों का एक मिश्रण है जैसे – हरीतकी, जेरेका, सौंफ, आदि। हाइटस हर्निया में ज्यादातर व्यक्ति पाचन से संबंधित मुद्दों जैसे – एनोरेक्सिया, पाचन में देरी, ब्लोटिंग आदि को प्रस्तुत करता है। इस प्रकार, यह औषधि पाचन  आग को बढ़ाने में मददगार साबित होती है। पाचन क्रिया को मजबूत बनाती है और विषाक्त पदार्थों को भी पचा देती है।

उपयोग करने का तरीका :–भोजन के बाद, सादे पानी के साथ 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।

3. हार्ट बर्न कैप्सूल

यह औषधि  प्राकृतिक कैल्शियम यौगिकों जैसे प्रवाल, मुक्ता इत्यादि से तैयार की जाती  है।यह शरीर में अम्लता, जलन आदि से राहत दिलाने में मदद करती  हैं, इसलिए हाइटस हर्निया के रोगी को इसका सेवन करना लाभकारी होता है ।

उपयोग करने का तरीका :- भोजन के बाद, सादे पानी के साथ 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।

आयुर्वेद के अनुसार हर्निया की बीमारी में इन चीजों से रहें दूर

  1. सभी मांसाहारी भोजन से बचना चाहिए।
  2. मिर्च, लहसुन और प्याज से परहेज करें।
  3. शराब और तंबाकू हानिकारक
  4. कोई तला हुआ खाद्य पदार्थ हानिकारक
  5. डिब्बा बंद फलों और खाद्य पदार्थों से बचें।
  6. सभी बेकरी खाद्य पदार्थों से बचें।
  7. उडद की दाल , काला चना, दधी, दही, ताजे साफ़ किये हुए चावल, पके केले आदि से बचें ।

कुछ अन्य जड़ी-बूटियाँ जो सहायक हैं

1. कुमारी (एलोवेरा)

पेट और आंत रोगों में एलोवेरा एक अच्छा विकल्प है। इसकी एंटी-ऑक्सीडेंट संपत्ति के कारण यह शरीर को बिमारियों से मुक्त रखने में सहायक साबित होता है । मूल रूप से यह हमारे शरीर में पित्त दोष को संतुलित करता है। इसलिए, यह आयुर्वेद के अनुसार  हाइटस हर्निया में एक प्रभावी जड़ी बूटी माना जाता  है।

2. आंवला (भारतीय करौदा)

आंवला शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने वाला सबसे उपयोगी फल माना जाता  है जो विभिन्न विटामिन और खनिजों में समृद्ध है। इस जड़ी बूटी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जो पेट की आंतरिक संरचनाओं को ठीक करने के लिए मुख्य घटक है। इसमें शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो शरीर को हर्निया जैसी बीमारी से दूर रखने में मददगार होते हैं ।

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  

Dr. Vikram Chauhan

Dr. Vikram Chauhan (MD-Ayurveda) is an expert ayurvedic doctor based in Chandigarh, India and doing his practice in Mohali, India. He is spreading the knowledge of Ayurveda - Ancient healing treatment, not only in India but also abroad. He is the CEO and Founder of Planet Ayurveda Products, Planet Ayurveda Clinic and Krishna Herbal Company.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *